♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

ठंड में आदिवासी समाज के बच्चों को स्वेटर देकर , डीआईजी ने पेश की इंसानियत की मिसाल

वाराणसी 21नवंबर : अपने दायित्व व वादों के प्रति कम ही अधिकारी सचेत रहते है।लेकिन वाराणसी परिक्षेत्र के डीआईजी श्री अखिलेश चौरसिया अपने वादे और दायित्व दोनों के प्रति चट्टान की भांति तटस्थ रहते है।विशाल भारत संस्थान के मुख्यालय लमही के सुभाष भवन में रहने वाले आदिवासी समाज के बच्चों को दीपावली के समय ठंड में स्वेटर देने का जो वादा विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राजीव श्रीगुरुजी से किया था उसे पूरा कर भी दिखया।ठंड में स्वेटर पाकर बच्चों के चेहरे पर मुस्कान के साथ गर्माहट भी आ गयी।       वाराणसी परिक्षेत्र के डीआईजी श्री अखिलेश चौरसिया जी दीपावली मनाने आये थे । फुलझड़ी ,मिठाई और दीपक लेकर आये । बच्चो के साथ खूब पटाखा बजाए और दीपावली की खुशियां बांटी । किसी बच्चे से पूछा ठंड आ रही है तुम लोगो के पास स्वेटर है ? किसी बच्चे ने कहा अभी नही है । डीआईजी श्री अखिलेश जी ने साथ मे खड़े विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ राजीव श्रीगुरुजी से कहा कि इन बच्चों के लिए स्वेटर मैं भेजूंगा । बात आई गयी हो गयी । हम लोगो को भी याद नही रहा ,लेकिन डीआईजी साहब को याद था । उनके पीआरओ ने विशाल भारत संस्थान के राष्ट्रीय महासचिव डॉ अर्चना भारतवंशी को फोन किया और कहा कि बच्चो की नाप भेज दीजिये । साहब स्वयं स्वेटर खरीदने जाएंगे । नाप भेज दिया गया । डीआईजी साहब स्वयं बाजार गए ,एक एक बच्चे के नाप से स्वेटर खरीदे और बच्चो के लिए सुभाष भवन भेजा । बच्चो को स्वेटर मिला और उन्होंने नाप लिया तो चेहरे पर खुशी के और कृतज्ञता के भाव थे । बच्चे खुश हो गए । डीआईजी साहब उन लोगो के लिए आईना है जो लोग बच्चो की गरीबी पर तरस खाकर कुछ पुराने कपड़े और स्वेटर भेज कर दानी होने का दम्भ भरते है लेकिन अखिलेश चौरसिया जी ने ऐसा नही किया । वे स्वयं बच्चो के लिए नए स्वेटर खरीदे और पूरे सम्मान के साथ भेजा । उन्होंने अपना जन्मदिन भी बच्चो के साथ न सिर्फ मनाया बल्कि उनके साथ भोजन भी किया । उन्होंने भेदभाव मुक्त समाज का संदेश दिया । जब वे दीपावली पर आए थे तो आदिवासी  बच्चो ने उनसे कहा कि हमारे तीर धनुष को हाथ मे लीजिये तो उन्होंने तुरंत तीर धनुष हाथ मे लेकर निशाना लगाया तो बच्चे खुश हो गए ।  आज बच्चे खुश है और डीआईजी साहब को धन्यवाद कह रहे है । खैर डीआईजी अखिलेश जी इंसानियत के प्रणेता है । उन बच्चो के लिए सोचे जो समाज के अंतिम पायदान पर है और जंगलों के निवासी है । अब जीवन भर इन बच्चों को डीआईजी साहब के किये गए नेक काम याद रहेंगे । विशाल भारत संस्थान ने डीआईजी अखिलेश जी के बच्चों के प्रति प्रेम को रियल हीरो कहकर अपनी कृतज्ञता ज्ञापित किया है । ऐसे पुलिस अधिकारी ही समाज और देश के आदर्श होते है । जय हिंद अखिलेश जी ।   डीआईजी साहब आप सच्चे भारत माता के सपूत और नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के पथ पर चलने वाले नेक इंसान है ।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे

[responsive-slider id=1811]

जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275